सेना ने डोपिंग का ढूंढा काट, दौडा रहे है तीन घंटे बाद

Posted by: अंकित शुक्ला Friday 5th of August 2016 11:48:49 AM


कानपुर। सेना की चल रही सीधी भर्ती में अभ्यर्थी बड़ी मात्रा में प्रतिबंधित दवाइयों का प्रयोग कर रहे हैं। जिसके चलते युवकों को शारीरिक दक्षता परीक्षा में आसानी हो जाती है। इसको रोकने के लिए सेना ने काट ढूंढ ली है और युवकों को अपने पास रखकर तीन घंटे बाद ही दौडा रहे हैं। कैंट के कैवलरी ग्राउंड में बारिश बंद होने के बाद दो अगस्त से सेना की सीधी भर्ती शुरू हुई। पहले दिन बाराबंकी के युवकों ने अपना दम दिखाया। जिसमें काफी मात्रा में युवकों ने शारीरिक दक्षता परीक्षा पास की। यह देख सेना के अधिकारियों को कुछ शक हुआ और जांच में जुट गए।
जांच में पाया गया कि अभ्यर्थी प्रतिबंधित दवाइयों का सेवन कर दौड़ लगा रहे हैं। फिर क्या था सेना ने इसकी काट के लिए दौड़ समय से तीन घंटे पहले ही अभ्यर्थियों को अपने पास बुलाना शुरू कर दिया। जिससे दवाओं का असर दौड़ में नहीं पड़ रहा है और अभ्यर्थी का सही दम सामने आ जाता है। भर्ती अधिकारी पीडीएस बल ने बताया कि अभ्यर्थियों के बैगों से तमाम तरह की प्रतिबंधित दवाएं मिली है। जिसको देखते हुए यह फैसला लिया गया है। पूरी भर्ती में ऐसे ही अभ्यर्थियों को शारीरिक दक्षता देना होगा। सेना द्वारा अभ्यर्थियों को दौड़ से पहले तीन घंटे बुलाने के फैसले से युवक हलाकान हो रहे है। गोंडा के असफल युवक राजेन्द्र सिंह ने बताया कि दौड़ सुबह 5ः45  से शुरू हुई और सेना के अधिकारी तीन घंटे पहले ही बुला लिया। जिससे दौड़ होते-होते भूख लगने से शरीर साथ नहीं दिया और असफल हो गया। उसने कहा कि सेना के इस निर्णय से युवकों को भारी तकलीफ का सामना करना पड़ रहा है।
 

Leave a Comment