धर्म-जाति के नाम पर वोट मांगा तो कार्यवायी तय ,डीएम

Posted by: राधिका प्रकाश Friday 6th of January 2017 05:32:21 PM

चुनाव अधिसूचना जारी होने के बाद गुरूवार को कलेक्ट्रेट में जिला निर्चाचन अधिकारी कौशल राज शर्मा ने सभी अधिकारियों की बैठक बुलाई। बैठक के बाद जिला निर्वाचन अधिकारी ने पत्रकार वार्ता के दौरान कहा कि चुनाव आयोग की दी हुई गाइड लाइन का कड़ाई से पालन कराया जाएगा। चुनाव के दौरान कोई भी राजनीतिक दल जाति, धर्म और मजहब के नाम से वोट मांगता हुआ पाया गया तो उसके खिलाफ सख्त कार्यवायी की जाएगी। 

उन्होंने बताया कि बैठक में चुनाव से संबंधित सभी अधिकारियों को सख्त हिदायत दी गई है कि चुनाव आयोग की गाइड लाइन के तहत सभी कार्य होने चाहिए। आयोग की गाइड लाइन के खिलाफ अगर कोई राजनेता या प्रत्याशी जाता है तो उसके खिलाफ सख्त कार्यवायी की जाएगी। कहा कि खासतौर पर अगर कोई प्रत्याशी जाति व धर्म के नाम पर सभा करता है या वोट मांगता है तो वह सुप्रीम कोर्ट के आदेशों का उलंघन माना जाएगा और सुप्रीम कोर्ट की आने वाली गाइड लाइन के तहत सख्त कार्यवाई की जाएगी।

 हालांकि उन्होंने कहा कि धर्म व जाति के नाम पर पहले से भी नियम है पर सुप्रीम कोर्ट का अभी हाल ही में जो आदेश आये हैं उसकी गाइड लाइन आने वाली है और उन्ही बिन्दुओं के तहत कार्यवायी होगी। कौशल राज शर्मा ने बताया कि जिले में चुनाव शांति पूर्वक निपटाए जाने की तैयारी हो चुकी है। सेक्टर मजिस्ट्रेट से लेकर पीठासीन अधिकारियों तक की सूची तैयार कर ली गई है। इसके साथ ही नामांकन व मतगणना तक की भी सभी तैयारियां कर ली गईं हैं।

पाई-पाई खर्च का देना होगा हिसाब 

जिला निर्वाचन अधिकारी ने बताया कि 2017 के विधानसभा चुनाव के दौरान उम्मीदवारों को पाई-पाई का खर्चा देना होगा। आयोग ने इसके लिए एक अधिकारी  नियुक्त कर दिया है, जो सभी उममीदारों को एक-एक रजिस्टर देगा, इसी में हर दिन का खर्च बताना होगा। इसके अलावा एलआईयू, सोशल मीडिया और स्थानीय पुलिस के जरिए कंडीडेटों के खर्च पर नजर रखी जाएगी। प्रत्याशी शराब या अन्य ऐसी कोई वस्तु मतदाताओं को नहीं दे पाएगें जो  लालच की श्रेणी में आते हैं। 


एसीएम कोर्ट में होगा नामांकन
कचहरी में अधिवक्ताओं व वादियों की परेशानियों को देखते हुए इस बार नामांकन करने के लिए व्यवस्थाओं में बदलाव किया गया है। जिला निर्वाचन अधिकारी ने बताया कि एसीएम कोर्ट में नामांकन की व्यवस्था की गई है। जिससे प्रत्याशी व उनके समर्थक कचहरी के के अंदर नहीं आ सकेगें और लोगों को अव्यवस्था नहीं होगी। 


दिव्यागों व महिलाओं का विशेष ध्यान
जिला निर्वाचन अधिकारी ने बताया कि मतदान के लिए दिव्यागों व महिलाओं का विशेष ध्यान रखा जाएगा। दिव्यांगों के लिए व्हील चेयर की व्यवस्था की गई है तो वहीं महिलाओं के लिए एक ऐसा बूथ बनाया जाएगा जिसमें सभी कर्मचारी महिलाएं होगीं।

Leave a Comment