शरीर को इंफैक्शन से बचाता है विटामिन सी

Posted by: Publlic Akrosh ADMIN Tuesday 4th of November 2014 09:42:25 AM

विटामिन सी पानी में घुलनशील एक विटामिन है जो हमारे सामान्य विकास के लिए बहुत जरूरी है। हमारे शरीर के हर हिस्से में ऊतकों की मुरम्मत तथा विकास के लिए विटामिन सी की जरूरत होती है। विटामिन सी एक महत्वपूर्ण एंटीआक्सीडैंट है जो फ्री रैडीकल्स से होने वाले नुक्सान को रोकता है। विटामिन सी हमारे स्वास्थ्य के लिए कई प्रकार से लाभदायक है। आइए जानते हैं इसके कुछ विशिष्ट लाभों के बारे में।

रोग-प्रतिरोधक क्षमता
विटामिन सी की एक स्वास्थ्यवद्र्धक खुराक हमारे शरीर को इंफैक्शन से बचाती है और हमारे दांतों तथा हड्डियों को स्वस्थ रखती है। यह हमारे शरीर के जख्मों को मुरम्मत करने की क्षमता में सुधार लाती है। विटामिन सी बैक्टीरिया, वायरस तथा इंफैक्शन से हमारा बचाव करता है। यह हमारी रोग प्रतिरोधक प्रणाली का एक महत्वपूर्ण हिस्सा है। मौखिक रूप से विटामिन सी का सेवन करने से जख्म तेजी से भरते हैं। यह हमें अल्ट्रावायलैट किरणों से होने वाले फ्री रैडीकल नुक्सान से भी बचाता है। 

हाइपरटैंशन 
विटामिन सी ब्लड प्रैशर को कम करता है और हाइपरटैंशन की संभावना को बहुत घटा देता है। इसके साथ ही यह उच्च रक्तचाप से जुड़ी कई अन्य समस्याओं से भी हमारा बचाव करता है। 

रक्तवाहिनियां 
विटामिन सी हमारी रक्तवाहिनियों के सही विस्तार या फैलाव को यकीनी बनाता है और हमें अथीरोस्कलीरोसिस, हाई कोलैस्ट्रोल, हार्ट कंजैशन तथा सीने के दर्द जैसी बीमारियों से भी बचाता है। 

वजन कम करना
विटामिन सी युक्त फलों तथा इनके जूस का सेवन करने से फैट कम होती है और व्यक्ति का वजन स्वस्थकर बना रहता है। प्रसिद्ध डाइटीशियन्स तथा न्यूट्रीशनिस्ट्स डाइट चार्ट में विटामिन सी युक्त फल तथा सब्जियां अवश्य शामिल करते हैं क्योंकि इस बात का वैज्ञानिक प्रमाण है जो दर्शाता है कि विटामिन सी से भरपूर खाद्यों के नियमित सेवन से वजन कम करने में बहुत सहायता मिलती है। विटामिन सी युक्त फलों के सेवन से इन्सुलिन कम होता है। इस तरह शूगर के स्टोर होने और उसे फैट में बदलने से विटामिन सी रोकता है। 

कैटारैक्ट्स मोतियाबिंद
हमारी आंखों की पुतलियों को सही ढंग से काम करने के लिए विटामिन सी की जरूरत होती है। विटामिन सी की कमी से कैटारैक्ट्स हो सकता है जिसमें हमारे लैंस अत्यधिक अपारदर्शी हो जाते हैं जिससे हमारी दृष्टि धुंधली हो जाती है और व्यस्कों में दृष्टिहीनता पैदा हो जाती है।विटामिन सी के अधिक सेवन से कैटारैक्ट्स से लड़ा जा सकता है और आंख तक रक्तप्रवाह की मात्रा को बढ़ाया जा सकता है। प्रतिदिन हजार मिलीग्राम विटामिन सी के सेवन से कैटारैक्ट्स को रोका जा सकता है और दृष्टि में सुधार लाया जा सकता है।

कैंसर
विटामिन सी के एंटीऑक्सीडैंट गुण हमारी कोशिकाओं को डी.एन.ए. डैमेज तथा म्यूटेशन से बचाते हैं और आगे चलकर कैंसर से हमारी रक्षा करते हैं। यह शरीर की रोग-प्रतिरोधक प्रणाली में सहायता करते हैं और कैंसर पैदा करने वाले यौगिकों को शरीर में निर्मित होने से रोकते हैं। ये गुण फेफड़ों, मुंह, गले, कोलोन, पेट तथा भोजन नली जैसे कैंसरों से हमारी रक्षा करते हैं। 

हृदय रोग 
विटामिन सी हमें हृदय रोग से भी बचाता है। ऐसा यह हमारी धमनियों की दीवारों को फ्री रैडीकल्स से होने वाले नुक्सान से बचा कर करता है। इस नुक्सान से धमनियों में प्लाक का निर्माण हो सकता है। विटामिन सी कोलैस्ट्रोल को ऑक्सीडाइज होने से भी रोकता है जिसके कारण हृदयाघात हो सकता है। 

विटामिन सी के स्रोत : खुबानी, शिमला मिर्च, अंगूर, गोभी, पत्तागोभी, कीवी, अंगूर, संतरा, अमरूद, नींबू, आम, पपीता, अनन्नास, पालक, आड़ू, टमाटर इत्यादि।

Leave a Comment