पथरी के दर्द को दूर करने में कारगर हैं ये घरेलू नुस्खे

Posted by: Publlic Akrosh ADMIN Friday 7th of November 2014 07:12:02 AM

बीमारी नाम ही इतना खतरनाक है कि शरीर में लगते ही आपको परेशानी होना शुरू हो जाती है। यही कारण है हम आपको ज़्यादातर बीमारियों से दूर रहने के घरेलु उपचार बताते हैं। आज हम आपको पथरी से जुड़ी दिक्कतों और घरेलू समाधानों के बारे में बता रहे है। पथरी कई साइज़ की होती हैं। कभी-कभार पथरी का दर्द सहन के बाहर भी हो जाता है और यह किसी भी उम्र के व्यक्ति को हो सकती है। पथरी अनुवांशिक भी हो सकती है, इसलिए हम आपको पथरी के बचाव और दर्द को कम करने के लिए कुछ घरेलू नुस्खे बता रहे हैं। जब नमक और अन्य खनिज पदार्थ(ऐसे पदार्थ जो आदमी के मूत्र में मौजूद होते हैं) एक दूसरे के संपर्क में आते हैं, तो स्टोन बनना शुरू हो जाता है। कुछ स्टोन रेत के दानों की तरह बहुत छोटे आकार के होते हैं, तो कुछ बहुत ही बड़े। आमतौर पर छोटे-मोटे स्टोन्स मूत्र के ज़रिए शरीर से बाहर निकल जाते हैं, लेकिन जो आकार में बड़े होते हैं वे बाहर नहीं निकल पाते और ये बाद में पथरी का रूप ले लेते हैं।

अंगूर का सेवन करें
 
किडनी स्टोन से छुटकारा दिलाने में अंगूर महत्वपूर्ण भूमिका निभाता है। अंगूर प्राकृतिक मूत्रवर्धक के रूप में कार्य करता है, क्योंकि इनमें पोटैशियम और पानी भरपूर मात्रा में होता है। अंगूर में अलबूमीन और सोडियम क्लोराइड बहुत ही कम मात्रा में होते हैं, जिनकी वजह से इन्हें किडनी स्टोन के उपचार के लिए अच्छा माना जाता है।
 
करेले के खाने से
 
करेला बुहत कड़वा होता है और आमतौर पर लोग इसे कम पसंद करते हैं, लेकिन किडनी स्टोन के मरीजों के लिए यह रामबाण की तरह है। करेले में मैग्नीशियम और फॉस्फोरस नामक तत्व होते हैं,जो पथरी को बनने से रोकते हैं। इसलिए किडनी स्टोन की समस्या पर होने करेले का सेवन करना चाहिए।
केला खाएं

स्टोन की समस्या से निपटने के लिए केले का सेवन करना चाहिए। इसमें विटामिन बी-6 होता है। विटामिन बी-6 ऑक्जेलेट क्रिस्टल को बनने से रोकता और तोड़ता है। इसके अलावा विटामिन बी-6,विटामिन बी के अन्य विटामिन के साथ सेवन करना किडनी स्टोन के इलाज में काफी मददगार होता है। एक शोध के मुताबिक विटामिन बी की 100 से 150 मिलीग्राम दैनिक खुराक किडनी स्टोन के उपचार में बहुत फायदेमंद है।

नींबू का रस

जैतून के तेल के साथ नींबू का रस मिलाकर सेवन करने से किडनी स्टोन में फायदा होता है। दर्द होने पर 60 मिली लीटर नींबू के रस में उतनी ही मात्रा में आर्गेनिक जैतून का तेल मिलाकर सेवन करने से इसके दर्द से भी आराम मिलता है। नींबू का रस और जैतून का तेल पूरे स्वास्थ्य के लिए अच्छा रहता है और यह आसानी से उपलब्ध भी हो जाता हैं।

 बथुए का साग
 
किडनी स्टोन को बाहर निकालने के लिए बथुए का साग बहुत ही कारगर माना जाता है। इसके लिए आप आधा किलो बथुए के साग को उबालकर छान लें। अब इसे पानी में जरा सी काली मिर्च,जीरा और हल्का सा सेंधा नमक मिलाकर,दिन में चार बार पिए,किडनी स्टोन में फायदा होगा।

अजवाइन का सेवन
 
अजवाइन एक महान यूरीन ऐक्ट्यूऐटर है और किडनी के लिए टॉनिक के रूप में काम करता है। किडनी में स्टोन के गठन को रोकने के लिए अजवाइन का इस्तेमाल मसाले के रूप में या चाय में नियमित रूप से किया जा सकता है।
 
तुलसी का प्रयोग
 
तुलसी कई बीमारियों के लिए लाभदायक है। तुलसी की चाय पीने से किडनी स्टोन से निजात मिलता है। तुलसी का रस लेने से पथरी को बाथरुम के रास्ते निकलने में मदद मिलती है। कम से कम एक महीना तुलसी के पत्तों के रस के साथ शहद लेने से किडनी स्टोन की समस्या से छुटकारा मिल सकता है। आप तुलसी के कुछ ताजे पत्ते रोजाना चबा भी सकते हैं,यह बहुत ही फायदेमंद है।

नारियल का पानी पीने से पथरी में फायदा होता है। पथरी होने पर नारियल का पानी पीना चाहिए।
 
15 दाने बडी इलायची के एक चम्मच,खरबूजे के बीज की गिरी और दो चम्म्च मिश्री,एक कप पानी में मिलाकर सुबह-शाम दो बार पीने से पथरी निकल जाती है।
 
पका हुआ जामुन पथरी से निजात दिलाने में बहुत महत्वपूर्ण भूमिका निभाता है। पथरी होने पर पका हुआ जामुन खाना चाहिए।
 
आंवला भी पथरी में बहुत फायदा करता है। आंवला का चूर्ण मूली के साथ खाने से मूत्राशय की पथरी निकल जाती है।
 
जीरे और चीनी को समान मात्रा में पीसकर एक-एक चम्मच ठंडे पानी से रोज तीन बार लेने से लाभ होता है और पथरी निकल जाती है।

सहजन की सब्जी खाने से गुर्दे की पथरी टूटकर बाहर निकल जाती है। आम के पत्ते छांव में सुखाकर बुहत बारीक पीस लें और आठ ग्राम रोज पानी के साथ लीजिए,फायदा होगा।
 
मिश्री,सौंफ,सूखा धनिया लेकर 50-50 ग्राम मात्रा में लेकर डेढ लीटर पानी में रात को भिगोकर रख दीजिए। अगली शाम को इनको पानी से छानकर पीस लीजिए और पानी में मिलाकर एक घोल बना लीजिए,इस घोल को पीजिए। पथरी निकल जाएंगी।
 
चाय,कॉफी और कैफीन युक्त पेय पदार्थों का सेवन बिल्कुल मत कीजिए। पथरी होने पर कोल्ड ड्रिंक ज्यादा मात्रा में पीना सही रहता है।
 
तुलसी के बीज का हिमजीरा दानेदार शक्कर व दूध के साथ लेने से मूत्र पिंड में फंसी पथरी निकल जाती है।
 
 जीरे को मिश्री की चासनी या शहद के साथ लेने पर पथरी घुलकर पेशाब के साथ निकल जाती है।

Leave a Comment