गुस्सा... क्या आप भी हर वक्त बरसते रहते हैं

Posted by: Publlic Akrosh ADMIN Saturday 1st of November 2014 08:21:53 AM

रोजमर्रा की जिंदगी में हमें तमाम तरह की मीठी-कड़वी बातों से दो-चार होना पड़ता है। ऐसे में गुस्‍सा आना स्‍वाभाविक है। लेकिन गुस्‍सा अगर लत का रूप ले ले तो इस पर विचार करना जरूरी है। बात-बात पर गुस्‍सा करने से हमारी सेहत पर प्रतिकूल प्रभाव पड़ता है। देखा गया है कि जो व्‍यक्‍ति गुस्‍सा नहीं करते, वो कम बीमार होते हैं।
गुस्‍सा भी भावना का एक प्रकार है। लेकिन जब यह भावना व्‍यवहार और आदत में बदल जाती है, तो आप के साथ-साथ दूसरों पर इसका गंभीर असर पड़ने लगता है। इसके लिए जरूरी यह है कि अपने गुस्‍से की सही वजह को पहचाना जाए और उन पर नियंत्रण रखा जाए।  
 
अमूमन हमारे मन में सवाल होते हैं कि हम इससे किस तरह छुटकारा पाएं। लेकिन इससे पहले यह बात जानना जरूरी है कि गुस्‍से से छुटकारा क्‍यों पाएं। जिस व्‍यक्‍ति को गुस्‍सा ज्‍यादा आता है, उनमें ब्‍लडप्रेशर, हाइपरटेंशन, गंभीर रूप से पीठ में दर्द की शिकायत देखी गई है। इसके साथ ही ऐसे लोगों को पेट की शिकायत भी हो सकती है। व्‍यक्‍ति की भावनाएं (सोच), विचार और आदत में अंतर्संबंध होता है। विचार, सोच को प्रभावित करते हैं और सोच से आदत बदलती है। दूसरे पहलू पर विचार करें तो आपकी आदतें भी विचार में और फिर विचार भावनाओं में परिवर्तन लाते हैं। इन तीनों में से किसी एक में भी बदलाव आने पर बड़ा बदलाव दिखाई देता है। 
 
गुस्‍से पर नियंत्रण करने के लिए जरूरी है, अपने बारे में ठीक से जानें कि आपका अपने प्रति व्‍यवहार कैसा है। 
 
*अपनी समस्‍याओं से लड़ने की क्षमता बढ़ाएं और इस बात का पता लगाएं कि उक्‍त बात आपको वाकई गुस्‍सा दिलाने वाली थी। 

 *अपने बदले व्‍यवहार से, जब आप गुस्‍से में हों, का आकलन करें और पता करें कि इससे आपको चाहने वाले लोग कितना आहत हुए होंगे। 
 
*इस बात का पता करें कि आपको किस बात पर गुस्‍सा आता है। 
 
*गुस्‍से के समय इस बात पर ध्‍यान दें कि आपका शरीर, खास कर हाव-भाव और हाथ-पैरों की गतिविधि कैसी दिखती है। 
 
*गुस्‍सा आने पर पानी पीएं। 
 
*अपना ध्यान दूसरी ओर केंद्रित करें। 
 
इस तरह की कई छोटी-छोटी बातों पर गौर करके आप अपने गुस्‍से पर काबू पा सकते हैं। गुस्‍से के दौरान किसी प्रकार की प्रतिक्रिया से बचना चाहिए। इससे लगभग सारी समस्‍याएं स्‍वत: समाप्‍त हो जाती हैं।
 
हां, गुस्‍सा बना रहने पर इसे दूर करना जरूरी है। जिसकी बात आपको बुरी लगी है, संभव हो तो उसे सामान्‍य तरीके से अपनी नाराजगी के बारे में बता दें। यदि यह कर पाना ठीक नहीं लग रहा हो तो अपने किसी मित्र से इस बारे में बात करें। यहां इस बात का ध्‍यान जरूर रखें कि आपकी बात शिकायत में नहीं बदले।
 
 
 

Leave a Comment