17.5 करोड़ डॉलर जुटाये हाइक मैसेंजर ने ,कंपनी हुई 1.4 अरब डॉलर की

Posted by: Publlic Akrosh ADMIN Tuesday 16th of August 2016 09:53:35 AM

इस्तेमाल करने वालों के लिहाज से देश की सबसे बड़ी इंटरनेट कंपनी हाइक मैसेंजर ने ऐलान किया है कि वो 17.5 करोड़ डॉलर यानी 1150 करोड़ रुपये से भी ज्यादा जुटाने में कामयाब रही है. इसी के साथ कंपनी ने ये दावा भी किया कि अब उसका मोल (वैल्यूएशन) 1.4 अरब डॉलर यानी 9300 करोड़ रुपये के करीब हो चला है. यहां आकलन के लिए एक डॉलर की कीमत 66.50 रुपये रखी गयी है.

हाइक मैसेंजर को टेलीकॉम बाजार की अगुवा कंपनी भारती एयरटेल के चेयरमैन सुनील भारती मित्तल के बेटे काविन मित्तल ने बनाया है. महज 3 साल से कुछ ज्यादा पुरानी कंपनी में सॉफ्टबैंक, टाइगर और भारती जैसे निवेशक पैसे लगा चुके है और अब टेनसेंट होल्डिंग और फॉक्सकॉन ने साढ़े 17 करोड़ डॉलर निवेश करने का फैसला किया है. काविन का कहना है कि इस पैसे का इस्तेमाल कंपनी कारोबार फैलाने में करेगी. काविन कहते हैं कि ताजा तरीन निवेश के जरिए कंपनी को नई ऊंचाइयों तक पहुंचाने की कोशिश होगी.

हाइक दरअसल व्हाट्स अप की तरह मुफ्त में मैसेजिंग की सुविधा मुहैया कराती है जहां शब्दों के साथ हिंदी और दूसरे क्षेत्रीय भाषाओं के स्टीकर भी भेजे जा सकते हैं. इसके इस्तेमाल के लिए आपको अपने स्मार्ट फोन पर एप डाउनलोड करना होगा. खास बात ये है इस प्लेटफ़ॉर्म के जरिए बगैर इंटरनेट या डाटा पैक के भी संदेश भेजे जा सकते हैं. यहां पर स्थानीय भाषाओं में खबरे और दूसरी जानकारी भी मुहैया करायी जाती है.

कंपनी का दावा है कि आज उसके इस्तेमाल करने वालों की संख्या 10 करोड़ तक पहुंच चुकी है. हर महीने 40 अरब संदेश एक जगह से दूसरे जगह पर भेजे जाते हैं और इस्तेमाल करने वाला औसतन हर महीने 120 मिनट इस प्लेटफॉर्म पर बिताता है. कंपनी अब इस संख्या का बढ़ाने के लिए भविष्य की योजनाओं पर काम कर रही है. कंपनी को उम्मीद है कि अगले चार-पांच सालों में वो अपनी सेवाओं के जरिए कमाई करना शुरु कर देगी.

कंपनी में लम्बे समय से निवेशक रहें सॉफ्टबैंक के चेयमरैन और सीईओ मासायोशी सोन कहते हैं कि जिन भारतीय कंपनियो में उन्होंने निवेश किया है, उनमें हाइक सबसे अच्छा प्रदर्शऩ करने वालों में शामिल है. इसी वजह से सॉफ्टबैंक का निवेश अब तक बना हुआ है. दूसरी ओर हाइक में ताजा निवेश करने वाले टेनसेंट के प्रेसिडेंट मार्टिन लाऊ कहते हैं कि ये कंपनी भारत को काफी बेहतर से समझती है. हाइक की मुहिम और टेनसेंट की मुहिम में काफी समानता है और उम्मीद है कि नए निवेश की बदौलत हाइक अपने ग्राहकों को और बेहतर सेवा मुहैया करा सकेगी. ध्यान रहे कि टेनसेंट चीन में माई चैट नाम से मैसेजिंग प्लेटफॉर्म मुहैया कराती है.

Leave a Comment