ऐसे होंगे 9 करोड़ भारतीय गरीबी से मुक्त

Posted by: Publlic Akrosh ADMIN Thursday 20th of November 2014 05:24:28 PM


नई दिल्ली ।  भारत में 65 सबसे अमीर लोगों पर मामूली दर से प्रॉपर्टी टैक्स लगाकर 5 साल में 9 करोड़ लोगों को गरीबी से बाहर निकाला जा सकता है। आर्थिक समानता पर जोर देने वाले विकास संगठन ऑक्सफैम इंडिया की ताजा रिपोर्ट 'इवन इट अप: टाइम टू एंड एक्सट्रीम इनईक्वलिटी' में कहा गया है कि अमीरों पर 1.5 प्रतिशत का प्रॉपर्टी टैक्स लगाकर 9 करोड़ लोगों को अत्यंत गरीबी से बाहर निकालने के लक्ष्य को हासिल किया जा सकता है। ''शोध से पता चलता है कि यदि भारत आय में असमानता को बढ़ने से रोक सके तो 2019 तक 9 करोड़ और लोगों को अत्यंत गरीबी के दायरे से निकाला जा सकता है।''
1990 के दशक में भारत में सिर्फ दो बिलियनेयर थे, जबकि 2014 में ऐसे लोगों की संख्या बढ़कर 65 हो गई है। इन अमीरों के पास इतनी प्रॉपर्टी है कि इससे देश में गरीबी को पूरी तरह से दो बार खत्म किया जा सकता है। देश में आने वाले प्रत्यक्ष विदेशी निवेश में से आधे से अधिक पूंजी टैक्स चोरी के पनाहगाह माने जाने वाले देशों के रास्ते आती है। ऑक्सफैम इंडिया ने कहा कि बहुराष्ट्रीय कंपनियों और दुनिया के अमीरों में शुमार लोगों द्वारा टैक्स चोरी को रोकने के लिए तत्काल कदम उठाए जाने की जरूरत है।
सरकारी आंकड़ों के अनुसार, देश में गरीबी का अनुपात 2011-12 में घटकर 21.9 % हो गया जो कि 2004-05 में 37.2 % था। 2011-12 में गांवों में गरीबी की रेखा अनुमानत: 816 रुपए प्रति व्यक्ति और शहरों में 1,000 रुपए प्रति व्यक्ति थी। इसका मतलब है कि शहरों में 33.33 रुपए प्रतिदिन और गांवों में 27.20 रुपए प्रतिदिन खर्च करने वाले व्यक्ति गरीब नहीं हैं। इस रिपोर्ट पर ऑक्सफैम इंडिया की सीईओ निशा अग्रवाल ने कहा, ''सरकार के लिए यह आसान जीत होगी। 65 सबसे अमीर लोगों पर डेढ़ प्रतिशत का प्रॉपर्टी टैक्स लगाने से 9 करोड़ लोग सम्मान और गरीबी मुक्त जीवन जी सकेंगे।''
 

Leave a Comment