डिजिटल पेमेंट: Paytm से बेहतर विकल्प देने की कोशिश में सरकार

Posted by: राधिका प्रकाश Monday 5th of December 2016 08:25:43 AM

नोटबंदी के बाद से देश भर में कैशलेस लेन-देन के प्रचलन को बढ़ाने पर जोर दिया जा रहा है। केंद्र सरकार ने एप्प बेस्ड ट्रांसफर्स के कई रास्ते तैयार करने का काम शुरू कर दिया है। सरकार ने रूपे, मास्टरकार्ड और वीजा से कॉमन क्विक रेस्पॉन्स कोड (QR) पर आधारित पेमेंट्स सल्यूशन तैयार करने को कहा है। इससे देश भर के दुकानदारों को बिना किसी कार्ड स्वाइप मशीन के इलैक्ट्रॉनिक पेमेंट हासिल हो सकेगी। जानें, कैसे काम करेगा यह क्विक रेस्पॉन्स कोड।

एप्प स्कैनिंग से होंगे लेन-देन
व्यापारी आपको कॉमन QR कोड दिखाएगा, जिसे रूपे, मास्टरकार्ड और वीजा जैसे पेमेंट नेटवर्क्स के एप्प से स्कैन किया जा सकेगा। इसके बाद आसानी से ग्राहक कोई भी रकम दुकानदार के खाते में ट्रांसफर कर सकेगा। इस तरह के QR कोड आधारित पेमेंट के लिए डैबिट या क्रैडिट कार्ड की कोई जरूरत नहीं होगी। फिलहाल पेटीएम इस तरह की सुविधा देता है लेकिन इसके तहत दुकानदार और ग्राहक दोनों के पास इसकी उपलब्धता जरूरी होती है। इसकी वजह यह है कि पेटीएम किसी दूसरे पेमेंट नेटवर्क को स्वीकार नहीं करता है।

दूसरे एप्स के जरिए भी रकम होगी ट्रांसफर
हालांकि सरकार की ओर से प्रस्तावित इस पेमेंट सिस्टम में कई अन्य एप्स के जरिए भी रकम ट्रांसफर की जा सकेगी। बैंकों, पेमेंट कंपनियों और केंद्रीय मंत्री पीयूष गोयल के नेतृत्व में सरकारी अधिकारियों के बीच मुलाकात के दौरान इस तरह के कॉमन QR कोड पर काम करने का विचार सामने आया। इस अति प्रचलित QR आधारित पेमेंट सल्यूशन को फिलहाल इंडिया क्यूआर कहा जा रहा है। इसे जनवरी तक लांच किए जाने की योजना है।

QR कोड पेमेंट्स के मामले में वीजा है अव्वल
QR कोड पेमेंट्स के मामले में वीजा को अग्रणी माना जा रहा है, जिसने एक साल पहले बेंगलुरु में 'एम वीजा' की शुरुआत की थी। एम वीजा को दुनिया भर में तमाम मार्केट्स में पेमेंट मीडियम के तौर पर स्वीकार किया गया है। हाल ही में मास्टरकार्ड ने भी अपनी QR सर्विस लांच की है। इसके अलावा रूपे की ओर से भी जल्दी ही ऐसे सल्यूशन की शुरूआत होने वाली है।

सरकार का तीसरा मोर्चा 
यह तीसरा मोर्चा है, जहां सरकार कैशलेस पेमेंट्स की ओर बढ़ने के प्रयासों में जुटी है। पिछले सप्ताह ही सरकार ने 3 महीनों के भीतर देश भर में 10 लाख अतिरिक्त कार्ड स्वाइप मशीनें लगाने का लक्ष्य तय किया था। इसके अलावा सरकार स्मार्टफोन्स के लिए यूनिफाइड पेमेंट्स इंटरफेस और मोबाइल मैसेजिंग पर आधारित पेमेंट एप्लिकेशन शुरू करने की भी तैयारी में है।

Leave a Comment