CM योगी ने गुंडों को यूपी और नेताओं को ठेकेदारी छोड़ने को कहा, सभी मंत्री देंगे विभागों का प्रेजेंट

Posted by: अंकित शुक्ला Monday 27th of March 2017 04:12:34 PM

हमेशा एक्शन में दिखने वाले आदित्यनाथ योगी ने कल गोरखपुर में दिखा दिया कि वो काम में यकीन रखते हैं. वो न सिर्फ यूपी की जनता के लिए जी जान से जुटे हैं, बल्कि बीजेपी के लिए 2019 में जीत की जमीन भी तैयार कर रहे हैं. आज से सभी मंत्री और प्रमुख सचिव भी अपने-अपने विभागों का प्रेजेंटेशन देंगे.

योगी काम की शुरुआत भी कर चुके हैं. एंटी रोमियो दल महिला सुरक्षा के लिए लगातार काम कर रहा है तो अपराधियों तक सीएम का ये संदेश भी पहुंच गया है. योगी ने कहा है कि हम मौज मस्ती करने नहीं आए हैं. हमें 18-20 घंटे काम करना हैं.

सीएम बनने के बाद पहली बार गोरखपुर के बीजेपी दफ्तर पहुंचे आदित्यनाथ योगी ने गुंडों को यूपी छोड़ने की चेतावनी दी तो अफसरों के लिए आदेश भी आ गया. भाषण के बाद योगी ने ट्विट कर कहा, ‘’राशन माफियाओं, खनन माफियाओं, गो माफिया और वन माफियाओं के खिलाफ अधिकारी अभियान शुरू करें.’’

राशन माफियाओं, खनन माफियाओं, गो माफिया एंव वन माफियाओं के विरूद्ध अभियान शुरू करें अधिकारी.

पुलिस पर जनता का भरोसा हो इसका फॉर्मूला भी सीएम ने दे दिया. सीएम योगी ने कहा, व्यस्त बाजारों में पुलिस अधिकारी और कर्मचारी प्रतिदिन डेढ़ से दो किलोमीटर पैदल घूमकर जनता में विश्वास पैदा करें.

सीएम योगी ने बदमाशों को यूपी छोड़ने की चेतावनी दी तो नेताओं को भी एक चेतावनी दे दी गई. मतलब साफ है योगी राज में नेता से लेकर अधिकारी और कर्मचारी तक. काम करो वरना रास्ता नापो. आदित्यनाथ योगी ने साफ कर दिया कि भय भूख और भ्रष्टाचार का यूपी में नामोनिशान भी नहीं होगा.

सीएम योगी ने कहा, किसी जिले में अगर भूख या बीमारी से किसी व्यक्ति की मौत हुई तो संबंधित जिलाधिकारी और सीएमओ दंडित होंगे.

किसानों के लिए भी सीएम योगी के पास योजनाएं थी. गेहूं और गन्ना किसानों की राहत के लिए सीएम ने बड़े एलान किए.  भाषण के बाद गन्ना किसानों के लिए भी एलान हो गया ट्विटर पर सीएम योगी ने लिखा,  गन्ना किसानों के पुराने बकाये 15 दिन के अन्दर भुगतान कराया जाये.


यही नहीं धार्मिक स्थलों का भी योगी ने ख्याल रखा है. उन्होंने ट्विट कर कहा, नवरात्रों पर सभी शक्तिपीठों पर विशेष सफाई, शुद्ध पेयजल, छाया, सुरक्षा और अस्थायी शौचालयों का निर्माण कराया जाए.


योगी आए तो हैं पांच साल के लिए लेकिन उन्होंने पहला लक्ष्य बनाया है दो साल का. दो साल का इसलिए क्योंकि 2019 में लोकसभा चुनाव है और यूपी में एक बार फिर 2014 और 2017 की प्रचंड जीत को दोहराने की जिम्मेदारी उनपर है. सीएम योगी इस पर काम शुरू कर चुके हैं.
 

Leave a Comment