कानून व्यवस्था को लेकर योगी सरकार को घरेने की तैयारी में विपक्ष

Posted by: संजय सिंह चौहान Monday 15th of May 2017 05:23:43 PM

त्तर प्रदेश में भाजपा सरकार पूर्ण बहुमत हासिल करने के बाद 90 दिन तक विधानसभा सत्र चलाने की तैयारी में हैं। इसके लिए मुख्यमंत्री आदित्यनाथ अपने विधायकों के प्रबोधन कार्यक्रम में कह चुके हैं।
भाजपा गठबंधन के 325 विधायकों में से 209 पहली बार चुनकर विधानसभा पहुंचे है। इसलिए बीजेपी की कोशिश है कि इन नए विधायकों की तरफ से कुछ भी ऐसा न हो जाए कि सरकार की किरकिरी हो।

 

लेकिन विपक्ष सरकार को काूनन व्यवस्था के मामले में घेरने की रणनीति तय कर रहा है। ऐसे में सदन कैसे सुचारू रूप से चले यह देखना दिलचस्प होगा।

विपक्ष द्वारा योगी सरकार पर पहला हमला कानून व्यवस्था को लेकर किया जाएगा। इसके अलावा ब्याज सहित गन्ना मूल्य भुगतान, समाजवादी पेंशन बंद किए जाने और प्रदेश में विकास कार्य ठप रहने के मुद्दों पर भी सरकार को विपक्ष घेरने की कोशिश करेगा।

वैसे तो योगी सरकार का विधानसभा में बहुमत है लेकिन विधानपरिषद में समाजवादी पार्टी बहुमत में है। इसलिए विपक्ष जोरदार हमले में कोई कोर कसर नहीं छोड़ना चाहता।

सपा ने विधानमंडल दल की बैठक बुलाई है। इसमें खुद सपा अध्यक्ष अखिलेश यादव मौजूद रहेंगे। वहीं बसपा नेताओं की मीटिंग तय किया जाएगा कि सरकार को किन मुद्दों पर घेरना है।

सपा के प्रवक्ता राजेंद्र चैधरी के अनुसार सपा सदन में सशक्त विपक्ष की भूमिका निभाएगी। बीजेपी के महज 50 दिन के कार्यकाल में ही प्रदेश की हालत खराब हो गई है। कानून व्यवस्था पूरी तरह ध्वस्त है. गमछे वाले कानून अपने हाथ में ले रहे हैं. महिलाओं की सुरक्षा खतरे में है।

सपा सरकार के विकास कार्यों में बीजेपी के मंत्री कमियां निकालते फिर रहे हैं. जनहित की योजना बंद की जा रही है। 55 लाख महिलाओं को सपा ने पेंशन दिया, उसे अब बंद कर दिया गया है। कर्जमाफी का वादा कुछ किया गया, दिया कुछ गया. गन्ना किसानों का भुगतान नहीं हो सका है।

बसपा के अनुसार कानून व्यवस्था, दलित उत्पीड़न, गन्ना किसानों के मुद्दे पर पार्टी सरकार को सदन में जोरदार ढंग से घेरेगी। उधर कांग्रेस ने भी खराब कानून व्यवस्था का मुद्दा उठाने की तैयारी कर ली है। इसके अलावा गन्ना किसानेां का मुद्दा भी उठाया जाएगा।

Leave a Comment